BPO Full Form In Hindi – बीपीओ के बारे में संपूर्ण जानकारी

BPO Full Form In Hindi : नमस्कार दोस्तों फिर से एक बार आपका स्वागत है हमारे इस नए जानकारी में,आज के इस लेख में हम आपको बीपीओ (BPO) के बारे में जानकारी देंगे. दोस्तों बीपीओ के बारे में तो आप जरूर सुने होंगे क्योंकि यह हर तरह के industries में एक बहुत ही जाना माना नाम है. तो चलिए बीपीओ के बारे में विस्तार से जानते हैं

BPO एक तरह के कंपनी को कहा जाता है और बीपीओ एक तरह के जॉब प्रोफाइल का भी नाम होता है. आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे क्यों बीपीओ सभी इंडस्ट्री के बीच इतना पॉपुलर है और क्यों नए-नए candidates इस बीपीओ जॉब को करते हैं या करना चाहते हैं. इसके अलावा और भी कई सारे सवाल का जवाब जैसे कि – 

BPO Full Form In Hindi

बीपीओ के बारे में जानकारी के तौर पर हम आपको बताएंगे बीपीओ का फुल फॉर्म क्या है, बीपीओ (BPO) क्या होता है, बीपीओ में किस तरह के काम होते हैं, बीपीओ कितने प्रकार के होते हैं, बीपीओ कंपनी में कार्य करने के लिए आपके पास क्या क्या योग्यताएं होना चाहिए आदि बीपीओ (BPO) से संबंधित इस तरह के सभी प्रकार के महत्वपूर्ण जानकारियां आज हम आपके साथ इसलिए के माध्यम से चर्चा करेंगे.

बीपीओ का फुल फॉर्म क्या है?

बीपीओ का फुल फॉर्म है (Full Form of BPO) “ Business Process Outsourcing ” और बीपीओ का हिंदी मतलब है (BPO Full Form In Hindi) “ बिज़नेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग ”.

यह भी पढ़ें 

1.  WHO full form in Hindi – डब्ल्यूएचओ के बारे पूरी जानकारी

2.  MLC Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

3.  SIP Full Form In Hindi – एसआईपी से संबंधित विस्तार पूर्वक जानकारी

4.  NHRC Full Form In Hindi – एनएचआरसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

5.  MLA Full Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

बीपीओ (BPO) क्या होता है?

कई सारे कंपनी होती है बड़ी बड़ी कंपनी होती है जिनके पास बहुत सारे काम होते हैं जिसमें से कुछ काम ऐसा होता है जो कंपनी खुद से नहीं करते हैं जैसे कि Customer Support, Sales & Marketing, Data Entry यह सारे काम कंपनी खुद नहीं करते हैं बल्कि इन कामों के लिए कंपनी किसी दूसरे कंपनी को हायर करती है.

इन सभी काम जो एक कंपनी किसी दूसरे कंपनी को हायर करके करवाती है उसे हम बीपीओ (BPO) यानी Business Process Outsourcing कहते हैं. और जो कंपनी इन कामों को करके देती है उन्हें हम BPO Company कहते हैं. जैसे कि अगर हम इसे किसी उदाहरण के माध्यम से समझे तो –

बीपीओ कंपनी का पहला उदाहरण 

Amazon और Flipkart एक ई-कॉमर्स कंपनी है जिनके के कई सारे कस्टमर और क्लाइंट्स होते हैं जो उनसे प्रोडक्ट खरीदते हैं. कस्टमर को कई सारे समस्या होते हैं और कई सारे प्रश्न होते हैं, तो उन कस्टमर को अगर किसी विषय में शिकायत करना हो तो वह किसे करेंगे क्योंकि इन कंपनियों के पास अलग से कोई supporting department नहीं होते हैं.

इसी वजह से  Amazon और Flipkart जैसे सारे कंपनियां अलग से किसी दूसरे कंपनी को हायर करती है, जो उसके कस्टमर सपोर्ट से संबंधित सारा काम करके देते हैं, कस्टमर की जो भी समस्या, शिकायत और प्रश्न होते हैं उन सब का जवाब देते हैं और इस तरह के काम सिर्फ बीपीओ कंपनी ही करते हैं. 

इससे सभी कंपनियों का काफी सारा फायदा होता है क्योंकि इस तरह के कामों के लिए उन्हें अलग से staff hiring, staff training, salary और building आदि का कोई भी झंझट नहीं रहती है. इसके अलावा इन सभी का खर्चा बच जाती है जिससे कंपनी को काफी फायदा होता है. इन सब कामों के लिए सभी कंपनी इन बीपीओ कंपनी को हायर करती है और एक निर्धारित अर्थ देते हैं. 

इस तरह से जब हम किसी कंपनी के कस्टमर केयर को कॉल करते हैं किसी question, query के समाधान से संबंधित विषय के लिए या फिर कोई शिकायत करने के लिए कॉल करते हैं, तब हम समझते हैं कि हम उस कंपनी के किस व्यक्ति के साथ बात कर रहे हैं जबकि ऐसा नहीं होता है, हम बात कर रहे होते हैं किसी बीपीओ कंपनी के एंप्लॉय से. 

बीपीओ कंपनी का दूसरा उदाहरण

जैसे की हम Vodafone, Jio और Airtel कंपनी के सिम (SIM) का इस्तेमाल करते हैं और किसी तरह के समस्या होने पर हम उनके कस्टमर केयर को कॉल करते हैं तब हमें लगता है कि हम उन Vodafone, Jio और Airtel कंपनी को कॉल किए हैं लेकिन ऐसा नहीं होता है हम बात करते हैं किसी बीपीओ कंपनी से और वही उन कंपनी के तरफ से हमारा समाधान करके देते हैं.

क्योंकि Vodafone, Jio और Airtel जैसे कंपनी अपने मुख्य कार्य पर ध्यान देते हैं उनका जो प्रधान कार्य है उसे ज्यादा से ज्यादा कैसे बेहतर बनाएं बाकी जो दूसरा काम रहता है वह सभी बीपीओ कंपनी के माध्यम से कराते हैं. इन सब उदाहरण को देखते हुए हम आशा करते हैं कि आपको अब समझ में आ गया होगा बीपीओ कंपनी क्या है क्यों है और कैसे काम करता है.

बीपीओ कंपनी कितने प्रकार के होते हैं?

बीपीओ कंपनी दो तरह के होते हैं, पहला होते हैं Domestic BPO Company और दूसरा Multinational BPO Company.

Domestic BPO Company : डॉमेस्टिक बीपीओ कंपनी यानी इनका जो क्लाइंट्स (clients) होते हैं वह खास तौर पर उसी देश के होते हैं जिस देश के वह कंपनी होते हैं. उदाहरण के तौर पर भारत में अगर कोई डोमेस्टिक कंपनी है तो उसके क्लाइम्स भी भारत के ही होते हैं, इस तरह के बीपीओ कंपनी को डॉमेस्टिक बीपीओ कंपनी कहा जाता है.

Multinational BPO Company : मल्टीनेशनल कंपनी यानी इनका कोई भी निर्धारित है देश का क्लाइंट्स (clients) नहीं होते हैं, इनकी क्लाइंट्स इंटरनेशनल होते या नहीं किसी भी देश के क्लाइंट्स हो सकते हैं. Google, Microsoft, Amazon, Yahoo आदि इन सब कंपनी के लिए जो बीपीओ कंपनी कार्य करते हैं उन्हें मल्टीनेशनल बीपीओ कंपनी कहा जाता है. 

बीपीओ कंपनी का काम क्या होता है?

अगर हम बात कर एक बीपीओ कंपनी में एक बीपीओ कर्मचारी (BPO Employee) को किस तरह के कार्य करना होता है तो आप निम्नलिखित दिए गए विषय को देखना चाहिए.

1) Customer Care

2) Data Entry

3) Technical Support

4) Chat Support

5) Data Analytics

6) Sales & Marketing

7) Social Media Handling

8) Back & Front Office Work

बीपीओ कंपनी में नौकरी लेने के लिए Required Skills

देखिए दोस्तों अगर आप बीपीओ सेक्टर में जाना चाहते हैं और एक अच्छे बीपीओ कंपनी में नौकरी करना चाहते हैं तो इसके लिए आप कुछ विशेष skill को बेहतर बनाना होगा और उसमें अच्छा performance देना होगा. उनमें से अगर हम कुछ विशेष skills के बारे में बात करें जो कि आपका अवश्य अच्छा होना चाहिए, तो वह skills है.

Communication Skills

Well on English Language

Better Typing Speed

Basic Knowledge of Computer

बीपीओ की सैलरी कितनी होती है?

दोस्तों अगर हम एक पीपीओ की सैलरी की बात करें तो जो डॉमेस्टिक बीपीओ कंपनी में कार्य कर रहे बीपीओ की कर्मचारी की तुलना में की तुलना में जो मल्टीनेशनल बीपीओ कंपनी में कार्य कर रहे हैं कर्मचारी की सैलरी ज्यादा होती है. जोकि एक साधारण वेतन से काफी अच्छी होती है हालांकि यह पूरी तरह से निर्भर करती है आप कितने अच्छे कंपनी में जॉब लेते हैं.

यह भी पढ़ें 

1.  WHO full form in Hindi – डब्ल्यूएचओ के बारे पूरी जानकारी

2.  MLC Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

3.  SIP Full Form In Hindi – एसआईपी से संबंधित विस्तार पूर्वक जानकारी

4.  NHRC Full Form In Hindi – एनएचआरसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

5.  MLA Full Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

दोस्तों आपने क्या सीखा

बीपीओ के बारे में जानकारी के तौर पर आज हम आपको बताएं बीपीओ का फुल फॉर्म क्या है, बीपीओ (BPO) क्या होता है, बीपीओ में किस तरह के काम होते हैं, बीपीओ कितने प्रकार के होते हैं, बीपीओ कंपनी में कार्य करने के लिए आपके पास क्या क्या योग्यताएं होना चाहिए आदि बीपीओ (BPO) से संबंधित इस तरह के सभी प्रकार के महत्वपूर्ण जानकारियां.

दोस्तों आज हम आपको बीपीओ कर्मचारी और बीपीओ कंपनी के बारे में बिस्तर पूर्वक जानकारी देने की कोशिश किए हैं हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे यह लेख बहुत ही अच्छा लगा होगा. यदि आपको हमारी यह लेख useful, helpful और informative लगे हैं तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share करें. Google

Leave a Comment