DM Full Form in Hindi | DM क्या होता है , District Magistrate कैसे बनें पूरी जानकारी

Hello friends, स्वागत है हमारे इस नए जानकारी मैं, आज हम आपको DM का फुल फॉर्म ( DM Full Form in Hindi ) के बारे में बताएंगे. डीएम एक सरकारी powerful job है, जिनके ऊपर जिले की कई सारे काम की जिम्मेदारी होते हैं. एक DM Officer को बहुत सामान, कई तरह के सुविधा और अच्छे रकम दिए जाते हैं.

दोस्तों आप DM शब्द के बारे में तो इससे पहले जरूर सुने होंगे, क्योंकि इसका जीकर समाज, सरकारी संस्थाओं और social media पर बहुत किया जाता है. ऐसे में आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि DM क्या है , DM का काम क्या होता है? , Benefits of DM , Salary of DM Officer आदि सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको हमारे इस पोस्ट में मिल जाएगा.

DM Full Form in Hindi

अगर आप यहां पर सिर्फ DM का फुल फॉर्म ( DM Full Form in Hindi ) और DM क्या है जानने के लिए नहीं आए हैं, आप जानना चाहते हैं DM Officer Kaise Bane , तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं क्योंकि यहां पर हम आपको DM बनने के लिए आवश्यकता , Eligibility to become DM आदि सभी तरीके विस्तार रूप में बताएंगे. दोस्तों सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे साथ अंत तक जरूर बने रहे.

DM का फुल फॉर्म / DM Full Form in Hindi

डीएम भारत प्रशासनिक सेवा के अंतर्गत एक जिम्मेदारी संपूर्ण और महत्वपूर्ण पद है. अगर हम डीएम का फुल फॉर्म के बारे में बात करें तो, डीएम का फुल फॉर्म है ( DM Full Form ) “ District Magistrate “ . वैसे तो डीएम का अलग-अलग क्षेत्र में अलग-अलग फुल फॉर्म है, पर इस फुल फॉर्म को ही अधिकतर रूप में समाज और सरकारी कामों के क्षेत्र में उपयोग किया जाता है. जैसे कि

यह था डीएम का अंग्रेजी नाम “ District Magistrate ” अब चलिए जानते हैं इसके हिंदी नाम के बारे में. दोस्तों हिंदी में डीएम को ( DM Full Form in Hindi ) “ जिला मैजिस्ट्रेट ” कहा जाता है. इसे विभिन्न लोग विभिन्न नाम से जानते हैं जैसे कि जिलाधीश , जिला-दंडनायक, जिला अधिकारी आदि.

DM Full Form

Serial No.DM Full Form In CategoryDM Full Form
1.DM Full FormDistrict Magistrate
2.DM Full Form In Hindiजिला मैजिस्ट्रेट , जिला-दंडनायक, जिला अधिकारी
3.DM Full Form In Unitsdecimeter
4.DM Full Form In HospitalsDisaster Management
5.DM Full Form In CurrenciesDeutsche Mark
6.DM Full Form In Academic DegreesDoctorate of Medicine
7.DM Full Form In Academic DegreesDoctor of Management
8.DM Full Form In General ComputingData Mining
9.DM Full Form In Ocean ScienceData Management
10.DM Full Form In DatabasesData Model
11.DM Full Form In Online BusinessDigital Marketing

यह भी पढ़ें 

  1. SDO Full Form in Hindi और कैसे बने हिंदी में पूरी जानकारी
  2. OTP Full Form in Hindi । OTP क्या है
  3. MM Full Form In Hindi | Marketing Manager क्या है
  4. SDM Full Form in Hindi | SDM कैसे बने
  5. B.Ed Full Form In Hindi | B.Ed क्या है पूरी जानकारी

DM कौन होता है / Who is DM ( District Magistrate )

भारत में पब्लिक सर्विस के लिए एक अत्यधिक प्रतिष्ठित केरियर ऑप्शन है DM ( District Magistrate ). डीएम ऑफिसर भारतीय सरकार के अंतर्गत और उनके निर्देश पर कानूनी कार्रवाई के ऊपर काम करते हैं. सरकार द्वारा लिए गए सिद्धांत को डीएम के माध्यम से लागू करने का और देखरेख करने का जिम्मेदारी होते हैं. उनके ऊपर कई सारी जिम्मेदारी होने के कारण उन्हें सरकार द्वारा बहुत सारे power और privileges दिए जाते हैं.

DM ( District Magistrate ) एक IAS ऑफिसर होता है . देश की सरकार कई सारे नियम-कानून लाते है, प्रकल्प बनाते है और decisions लेते हैं, उसे हर राज्य, जिले, शहर और गांव में पहुंचाना DM का काम होता है. MLA और MP के द्वारा दिए गए decision का implement करते हैं और जगह जगह पर development का काम लागू करते हैं, हार शहर और गांव में सुविधाओं को लेकर जाते हैं और जन्ता का समस्या का सुधार करते हैं.

Credit : Prabhat Exam

DM का काम क्या होता है?

  1. DM ऑफिसर के बहुत सारे काम होते हैं, जो कि उनके location of posting और department के ऊपर निर्भर करता है. कई तरीके से एक IAS ऑफिसर को देश की सेवा कर के रूप में भेजा जा सकता है.
  2. DM के अलावा IAS ऑफिसर को किसी डिपार्टमेंट का हेड जैसे finance , agriculture, policy formulation in charge, head of PSU आदि भी बनाया जा सकता है.
  3. काम के लिए विदेश में भेजा जा सकता है, उन्हें central government के किसी भी डिपार्टमेंट में assign किया जा सकता है. 
  4. District Officer के पोस्ट जैसे कि District Magistrate, District Collector, Deputy Commissioner के नाम से भी जानते हैं. यह पोस्ट सभी पोस्ट में से सबसे ज्यादा सम्मानीय और विशेष पोस्ट है. और उन्हें जिले से संबंधित सबसे ज्यादा power भी दिए जाते हैं.
  5. District Magistrate उनके काम की क्षेत्र में law and order और general administration के लिए जिम्मेदार होते हैं. जैसे-जैसे इनका काम करने का experience और तजुर्बा बढ़ता रहेते है, उस हिसाब से उनका functions और responsibilities update होते रहते हैं.
  6. अपने काम के शुरुआत में एक IAS ऑफिसर state administration को sub-division level पर join करता है. Sub Division Magistrate बनकर General administration and developments के काम के साथ-साथ अपने area के law and order को संभालते हैं.
  7. साधारण तौर पर DM का काम होता है district affairs को संभालना जैसे की electricity, water supply, school, hospital, district citizen’s issue आदि समस्या का समाधान.
  8. उनका कर्तव्य होता है development scheme को लागू करना और उस के ऊपर देखरेख करना, निगरानी रखना. सरकारी हर समस्या का हल निकालना.
  9. DM को daily reports को analyze करना पड़ता है, Department के सभी कामों को supervise करना, अलग-अलग side पर visit करके उनका development activity को review  करना. 
  10. पूरे डिस्ट्रिक्ट के security की जिम्मेदारी डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के ऊपर होते हैं. इसलिए emergency के दौरान जैसे कि natural disaster , rights आदि को नियंत्रण में रखने के लिए एक डीएम ऑफिसर को अधिकतर समय देर रात तक काम करना पड़ता है.
  11. जो पब्लिक फंड का पैसा है वह सही तरीके से बांटा जा रहा है या नहींइसकी responsibility भी IAS ऑफिसर के ऊपर होता है. कुल मिलाकर एक IAS ऑफिसर DM का कई सारे दायित्व और responsibility रहते हैं. वह आपने काम को अपने team के साथ हमेशा जुनून, देश भक्ति और ईमानदारी के साथ करते हैं.

डीएम बनने का फायदा / Benefits of DM

दोस्तों क्या आप जानते हैं एक DM Officer को अच्छे सैलरी देने के साथ-साथ सरकार के तरफ से बहुत सारे facilities और benefits मिलते हैं. यह सब देखते हुए एक DM Officer काफी मेहनत के बाद भी ज्यादा से ज्यादा फायदेमंद रहते हैं, तो चलिए जानते हैं, डीएम बनने का फायदा ( Benefits of DM ) के बारे में.

  1. सरकार एक DM Officer को वह जिस area में posted रहते हैं, वहां के VVIP area में उनको एक बंगलो देता है. साथ साथ gardner और cook दिया जाता है.
  2. DM Officer को सरकार के तरफ से एक personal car भी दिया जाता है, साथ-साथ driver भी देते हैं. और सब कुछ maintenance के खर्चे सरकार उठाते हैं.
  3. इन जैसे high reputed officer को दुनिया भर में official trips दिया जाता है, जहां पर ट्रेन और प्लेन में travel करने के लिए AC fast class sit फ्री में उपलब्ध होता है.
  4. Free में केबल, इंटरनेट कनेक्शन, इलेक्ट्रिसिटी जैसे फैसिलिटी भी मिलती है. साथी साथ BSNL का landline connection और broadband connection भी फ्री में मिलता है.
  5. DM ऑफिसर और उनके परिवार के लिए medical services भी फ्री होते हैं. बड़ी से बड़ी बीमारियों का सारा खर्चा सरकार उठाती है. 
  6. DM ऑफिसर सरकार के लिए काफी important person होते हैं इसलिए उन्हें सरकार के तरफ से ही security देते हैं. वह जहां पर भी जाते हैं उनके साथ 2-3 bodyguard जरूर रहते हैं. वह emergency situation में अपनी और अपने परिवार के लिए कभी भी security बढ़ा सकते हैं.
  7. यह था पहुंच सरकारी फायदे की जानकारी पर इसके अलावा भी एक डीएम ऑफिसर को काफी सारे unofficial फायदे भी मिलते हैं जैसे school, college की functions, party और concert में as a chief guest आमंत्रण मिलते हैं.

DM Officer Kaise Bane / डीएम अधिकारी कैसे बने

एक DM इयानी IAS Officer बनने के लिए Civil Services Exam मे पास करना होता है, जिसे ( Union Public Service Commission ) UPSC exam कहा जाता है. इसे भारत का सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है क्योंकि हर साल लगभग 10 लाख से भी ज्यादा लोग UPSC CSE ( Civil Services Examination ) फॉर्म भरते हैं, लेकिन उनमें से केबल 180 लोग हैं IAS बन पाता है.

( Civil Services Examination ) UPSC CSE परीक्षा 3 भाग में होते हैं, पहेले होगा Preliminary Examination (mcq test) , पास करने के बाद होगा Mains Examination (written test) और आखिर में होगा Interview. हर stage में candidate को eliminate किया जाता है. लास्ट तक पहुंचने वाले candidate में से top candidate को ही IAS बनने का मौका मिलते हैं.

  • Examination Name – UPSC CSE ( Union Public Service Commission ) ( Civil Services Examination )

DM बनने के लिए आवश्यकता 

चलिए हम देखते हैं DM बनने के लिए आपके पास क्या आवश्यकता होना चाहिए. अगर आप DM बनना चाहते हैं तो आपके पास minimum qualification graduation pass होना चाहिए. आपका किसी भी discipline है, जैसे कि Arts, Commerce इया Science subject आदि से आपने graduation complete कर लिया है तो आप DM बनने का परीक्षा दे सकते हैं.

डीएम बनने के लिए आपको एक परीक्षा देने की आवश्यकता है, इस परीक्षा को UPSC के द्वारा conduct करवाया जाता है, इसके लिए आपको CSE ( Civil Service Examination ) देना होता है. इस परीक्षा में सफल होने के बाद ही आप एक DM Officer बन सकते हैं.  

याद रखना , सीधे-सीधे आप कभी भी परीक्षा देकर एक DM नहीं बन सकते हैं , UPSC CSE परीक्षा के माध्यम से सफल होकर आप सबसे पहेले एक DM ( Divisional Magistrate) Officer बनते हैं . उसके बाद आप DM बनकर 4 से 5 साल काम करने के बाद आपका promotion होकर आप एक DM से DM ( District Magistrate ) बनते हैं. 

डीएम बनने की योग्यता / Eligibility to become DM

काफी सारे लोगों को यह लगता है कि IAS मतलब है District Magistrate इया Collector, पर ऐसा होना जरूरी नहीं है. ऐसा भी होते हैं कि exam पास करने के बाद IAS बने लेकिन Collector कभी ना बने. पर ऐसा बहुत ही कम होता है, जो भी IAS बनता है वह कभी ना कभी DM जरूर बनता है.

DM बनने का कुछ आवश्यकता है ( Eligibility to become DM ) जिसके बारे में आपको जरूर जाना चाहिए. Graduation में पासका सिर्फ pass marks होने पर ही आप इस फॉर्म को भर सकते हैं मतलब डीएम बनने का प्रयास कर सकते हैं. ग्रेजुएशन आप किसी भी stream से किया हो आप इस फॉर्म को भर सकते हैं. जैसे कि

Qualification Required

Serial No.योग्यता होना चाहिएCourse का Full Form
1.BABachelor of Arts
2.B.ComBachelor of Commerce
3.BBABachelor of Business Administration
4.BCABachelor’s in Computer Application
5.EngrEngineering
6.MedicalNone
7.Hotel ManagementNone

डीएम बनने का Age limit कितना है?

चलिए अब हम जानते हैं DM बनने के लिए तथा UPSC CSE का फॉर्म भरने के लिए age limit क्या है. दोस्तों हर राज्य के लिए सरकार द्वारा निर्धारित एज लिमिट है, फिर भी मान के चलिए PSC का फॉर्म भरने के लिए न्यूनतम आयु होना चाहिए 21 होना साल और अधिकतम आयु होना चाहिए 32 साल.

यह age limit सभी के लिए समान है, इससे कम या ज्यादा उम्र के लोग इस फॉर्म को नहीं भर सकते हैं. आप जींस स्टेट का फॉर्म भरते हैं जो छूट मिलेगी वह उसी स्टेट के लोगों के लिए होगी. दूसरे स्टेट के लिए फॉर्म भरते हैं तो उस स्टेट का एज लिमिट लागू होगा और इसके लिए आपको उस स्टेट का एज लिमिट देखना पड़ेगा.

Age Criteria

Serial No.Caste CategoryAge CriteriaAttempt (Upto over age)
1.General category21 – 32 Years6th
2.OBC category21 – 35 Years9th
3.SC / ST category21 – 37 YearsUnlimited

DM बनने के लिए क्या Qualification होना चाहिए

DM बनने के लिए मतलब UPSC CSE का फॉर्म भरने के लिए आपका graduation पास होना जरूरी है. अगर आप न्यूनतम नंबर से ग्रेजुएशन पास करते हैं फॉर्म भर सकते हैं. फॉर्म भरने के बाद आपको मौका मिलेगा एग्जाम देने का, दोस्तों डीएम बनने के लिए आपको 3 दफा में परीक्षा देना पड़ता है.

प्रारंभिक परीक्षा / Preliminary Examination

Preliminary Examination के लिए , इसमें आपको MCQ ( Multiple Choice Question ) solve करना पड़ता है. यहां पर आप कौन हैं 2 paper देने पड़ते हैं General Studies 1 और General Studies 2 . General Studies 1 मैं कुल 150 प्रश्न होते हैं, जोकि 200 नंबर के होते हैं और General Studies 2 मैं कुल 100 प्रश्न होते है जोकि 200 नंबर के होते हैं. 

Type of Paper

  1. General Studies 1
  2. General Studies 2

Preliminary Examination मैं question 10th level के ही होते हैं. इन दोनों paper solve करने के लिए आपको समय मिलता है 2 घंटे करके. Paper 2 सिर्फ एक qualifying paper है, merit list बनाने के लिए इस नंबर को जोड़ा नहीं जाता है. इसमें आपको 33% मार्क्स लाना आवश्यक है, तभी आप mains exam में बैठ सकते हैं.

मुख्य परीक्षा / Mains Examination

Mains Examination स्टेट UPSC CSE के लिए काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि यही परीक्षा आपको फाइनल एग्जाम तक लेकर जा सकते हैं. इस परीक्षा में कुल 8 पेपर होते हैं General Hindi, Essay, General Studies I, General Studies II, General Studies III, General Studies IV, Optional Subject – Paper I, Optional Subject – Paper II. सभी पेपर के लिए आपको 3 घंटे करके समय दिए जाते है. 

Type of Paper

Serial No.Name Of Paper
1.General Hindi
2.Essay
3.General Studies I
4.General Studies II
5.General Studies III
6.General Studies IV
7.Optional Subject – Paper I
8.Optional Subject – Paper II

साक्षात्कार परीक्षा / Interview Examination

दोस्तों जब आप Preliminary Examination और Mains Examination देकर पास हो जाते हैं तब बाड़ी आता है Interview Examination का. Interview मैं आपसे 200 marks का प्रश्न पूछा जाता है जिसमे आपको कई की तरह के जश्न का उत्तर देना होता है. Interview के माध्यम से ही DM अधिकारी को चुना जाता है तो इसलिए आपके लिए interview सबसे महत्वपूर्ण है.

परीक्षा ( Examination ) के इन 3 stage चीजों को पूरा करने के बाद ही आप DM के लिए चुने जाएंगे. ध्यान रखिएगा आपको तीनों क्षेत्र के परीक्षा में एक दफा में पास करना है, अगर आप लिखित परीक्षा में पास होते हैं और interview में फेल करते हैं, तो आपको दोबारा से इन तीनों परीक्षा देना होगा. 

परीक्षा का विषय क्या है / What is the Syllabus of Examination

किसी भी परीक्षा में पास होने के लिए उस परीक्षा के सिलेबस का ज्ञान होना सबसे ज्यादा आवश्यक है. जैसे कि हमने आपको बताया तीन तरह के एग्जाम देना पड़ता है Preliminary Examination , Mains Exam और Interview. तीन तरह के एग्जाम के लिए अलग-अलग syllabus होते हैं और अलग-अलग examination pattern होते हैं. जैसे कि,

1. Preliminary Examination Syllabus

Preliminary Examination की Paper 1 में आप से Current Affair, Indian History, India and World Geography, General Knowledge, Economy, Political Science And Social Development से प्रश्न पूछा जाता है. Preliminary Examination की Paper 2 में आप से Mathematics, Reasoning, English और Hindi से प्रश्न पूछा जाता है.

2. Mains Examination Syllabus

General Hindi से 50 नंबर का प्रश्न पूछा जाता है, Essay Writing मैं तीन टॉपिक से 700 words के लिखना है, General Studies के 4 paper होते हैं जोकि 200 नंबर करके रहेते हैं. पहले 3 paper में Indian History, Economics, World Geography, Disaster, Current Affairs से प्रश्न पूछा जाता है और paper 4 में Ethics से प्रश्न पूछा जाता है. Optional Subject के ऊपर कुल 29 subject होते हैं जिसमें से आपको किसी भी एक विषय के ऊपर परीक्षा देना पड़ता है.

3. Interview Examination Syllabus

इंटरव्यू के लिए निर्धारित कोई सिलेबस नहीं है, आपसे कुछ भी विषय के ऊपर प्रश्न पूछा जा सकता है, आपको किताब से भी प्रश्न पूछा जा सकता है और आपके जिला के बारे में भी पूछा जा सकता है. यहां पर आपसे जो भी प्रश्न पूछा जाता है उनका उत्तर आपको बहुत ही सोच समझ कर और सही ढंग से देना होता है.

Salary of DM Officer / डीएम अधिकारी का वेतन 

7th Pay commission implementation के बाद Civil Servants भारत में ठीक-ठाक पैसे मिलते हैं. DM ऑफिसर के starting basic salary है, लगभग महीने का 50 से 55 हजार रुपए तक. जहां पर TA, DA, HRA अलग से मिलते हैं. जैसे-जैसे उनका तजुर्बा बढ़ता है वैसे ही उनका वेतन भी बढ़ते हैं और DM Officer सभी का खर्चा सरकार के तरफ से उठाया जाता है. कुल मिलाकर कहां जा सकता है जिला मैजिस्ट्रेट का वेतन काफी अच्छा होता है.

यह भी पढ़ें 

  1. SDO Full Form in Hindi और कैसे बने हिंदी में पूरी जानकारी
  2. OTP Full Form in Hindi । OTP क्या है
  3. MM Full Form In Hindi | Marketing Manager क्या है
  4. SDM Full Form in Hindi | SDM कैसे बने
  5. B.Ed Full Form In Hindi | B.Ed क्या है पूरी जानकारी

आपने क्या सीखा

दोस्तों, District Magistrate एक बहुत ही challenging service होता है. यह कोई साधारण जॉब की तरह नहीं है, क्योंकि यहां पर DM को सिर्फ काम ही नहीं, लोगों की देखभाल का जिम्मेदारी भी मिलते हैं. उनका काम लाखों लोगों के लिए होता है. इसलिए DM एक perfect जॉब होते हैं उनके लिए जो लोगों के जीवन में बदलाव लाना चाहते हैं.

आज हम इस लेख के माध्यम से बताए हैं DM Full Form in Hindi , DM क्या होता है और DM कैसे बने आदि. दोस्तों हम आपसे डीएम से जुड़ी हुई सभी जानकारी इस लेख के माध्यम से दिए हैं. तो अगर आप डीएम बनने की तैयारी करना चरेहे है, तो आप इसका शुरुआत अभी से ही कर दीजिए और अगर कुछ confusion है तो हमसे पुच सकते हैं.

दोस्तों आपको कैसा लगा हमारा आज का यह नए जानकारी, हमें नीचे comment करके जरूर बताना. अगर आपको हमारा आज के यह पोस्ट जानकारी पूर्ण और महत्वपूर्ण लगे हैं तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना. तो दोस्तों आज हम हमारे इस सफर को यहीं पर समाप्त करते हैं और आपसे मिलते हैं हमारे अगले नए जानकारी के साथ, तब तक के लिए स्वस्थ रहना खुश रहना.

Leave a Comment