NHRC Full Form In Hindi – एनएचआरसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

NHRC Full Form In Hindi : नमस्कार दोस्तों, इस लेख में हम एनएचआरसी (NHRC) के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे अर्थात इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे एनएचआरसी क्या है. NHRC एक आयोग है जो मानवाधिकार के लिए कार्य करता है. इसके अंतर्गत कार्य करने वाले सदस्यों का जिम्मेदारी होता है साधारण मानव के लिए उनका हक दिलाना. 

एनएचआरसी से संबंधित और भी कई सारे महत्वपूर्ण जानकारी जो आपको जरूर जाना चाहिए जैसे कि एनएचआरसी का पूरा नाम क्या है, एनएचआरसी का संरचना क्या है, इसके कार्य और शक्ति, इसके मुख्यालय कहां है, इसके सीमाएं क्या है, एनएचआरसी सदस्यों की योग्यता क्या है आदि.

NHRC Full Form In Hindi

एनएचआरसी (NHRC) से संबंधित इस तरह के और भी कई सारे महत्वपूर्ण जानकारियां आपको इसलिए के माध्यम से प्राप्त होंगे. संपूर्ण जानकारी विस्तार से प्राप्त करने के लिए हमारे साथ अंत तक जरूर बने रहे. दोस्तों हम इस लेख में सभी जानकारियां इस तरह से प्रदान किए हैं ताकि आपको इससे जुड़ी जानकारी हासिल करने में किसी तरह की दिक्कत ना हो. 

एनएचआरसी का फुल फॉर्म क्या है?

एनएचआरसी का पूरा नाम है (Full Form of NHRC) “ National Human Rights Commission ”. और एनएचआरसी का हिंदी मतलब है (NHRC Full Form In Hindi) “ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग “.

यह भी पढ़ें 

1.  WHO full form in Hindi – डब्ल्यूएचओ के बारे पूरी जानकारी

2.  MLC Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

3.  PSC Full Form In Hindi – पीएससी की पूरी जानकारी

4.  ICSE Full Form In Hindi – आईसीएसई बोर्ड की पूरी जानकारी

5.  MLA Full Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

एनएचआरसी (NHRC) क्या है?

(NHRC) एनएचआरसी का स्थापना 12 अक्टूबर 1993 को हुई थी, मानव अधिकार संरक्षण अधिनियम 1993 के तहत NHRC को गठित किया गया था. एनएसआइसी का मुख्यालय नई दिल्ली में है.

गठन 12 अक्टूबर 1993 
अधिनियम मानव अधिकार संरक्षण अधिनियम
प्रकृति सांविधिक निकाय
मुख्यालय नई दिल्ली

एनएचआरसी का उद्देश्य और लक्ष्य

  • मानव अधिकारों का संरक्षण और संबर्द्धन करना
  • लोगों के बीच मानव अधिकारों के बारे में जागरूकता फैलाना
  • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकार के क्षेत्र में काम करने वाले सभी हितधारको के सभी प्रयासों को प्रसारित करना.

एनएचआरसी का संगठनात्मक संरचना

एनएचआरसी का 1 अध्यक्ष, 5 मुख्य सदस्य और 7 पदेन सदस्य है, यानी कि यह कुल 13 सदस्यों की निकाय है. 

अध्यक्ष – भारत का सेवानिवृत्ति मुख्य न्यायाधीश या सुप्रीम कोर्ट का सेवानिवृत्त न्यायाधीश एनएचआरसी का अध्यक्ष होता है. 

पूर्णकालिक सदस्य – 5 पूर्णकालिक सदस्य होते हैं जिन में निम्नलिखित शामिल है,

1 सदस्य सुप्रीम कोर्ट का सेवारत या सेवानिवृत्त न्यायाधीश 

1 सदस्य हाई कोर्ट का सेवारत या सेवानिवृत्त मुख्य न्यायाधीश

3 सदस्य जिनके पास मानव अधिकार से संबंधित विषयों का ज्ञान एवं व्यावहारिक अनुभव हो. 

इन 3 सदस्य में से कम से कम एक सदस्य महिला होना चाहिए.

पदेन सदस्य – पदेन सदस्य का संख्या 7 है, जिनमें शामिल है

  1. राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष
  2. राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष 
  3. राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष 
  4. राष्ट्रीय महिला आयोग के अध्यक्ष 
  5. राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष
  6. राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष 
  7. Chief Commissioner for persons with disabilities

एनएचआरसी की मुख्य कार्य 

1) मानव अधिकारों के मुख्य उलंघन की शिकायतों की जांच करना.

2) ऐसे उल्लंघन को रोकने में अधिकारियों द्वारा की गई लापरवाही की जांच करना.

3) मानव अधिकार पर अंतर्राष्ट्रीय संधियों और दस्तावेजों का अध्ययन करना एवं सरकार को इसके प्रभावी कार्यान्वयन के लिए सिफारिश करना.

4) राज्य तथा केंद्र सरकारों को मानव अधिकारों का उल्लंघन रोकने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाने की सिफारिश भी कर सकते हैं. 

5) मानव अधिकार से संबंधित बिधिक नियमों की जागरूकता फैलाना.

6) इनके पास मुआबजे और हर्जाने के भुगतान की सिफारिश करने का भी अधिकार है.

एनएचआरसी की सीमाएं

★ एनएचआरसी का कार्य केवल सिविल न्यायालय के तरह है. इन्हें किसी व्यक्ति को दंड देने और किसी व्यक्ति को आर्थिक सहायता देने का अधिकार नहीं है.

★ इनके द्वारा सरकार को दी गई सलाह बाध्यकारी नहीं है.

★ एनएचआरसी केबल उन मामले की जांच कर सकती है जिसे घटित एक बार से अधिक ना हुई हो तथा जिसकी जांच राज्य मानव अधिकार आयोग या अन्य आयोग द्वारा ना की जा रही हो.

एनएचआरसी सदस्यों की नियुक्ति 

अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा प्रधानमंत्री जी की अध्यक्षता वाली उच्चस्तरीय कमिटी की सिफारिशों के आधार पर की जाती है. अध्यक्ष एवं सदस्यों का कार्यकाल 3 साल या 70 वर्ष की उम्र तक जो भी पहले हो वह होता है. यह चयन समिति 6 सदस्यों का होता है. इन सभी लोगों के द्वारा NHRC का चयन समिति बनाया जाता है. और उन्हीं के सिफारिश पर राष्ट्रपति के द्वारा एनएचआरसी की सदस्यों का गठन किया जाता है.

  1. प्रधानमंत्री समिति का अध्यक्ष होते हैं.
  2. एक मुख्यमंत्री होते हैं.
  3. लोकसभा अध्यक्ष होते हैं.
  4. राज्यसभा के उपसभापति होते हैं.
  5. लोकसभा में विपक्ष के नेता होते हैं.
  6. राज्यसभा में विपक्ष के नेता होते हैं.

यह भी पढ़ें 

1.  WHO full form in Hindi – डब्ल्यूएचओ के बारे पूरी जानकारी

2.  MLC Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

3.  PSC Full Form In Hindi – पीएससी की पूरी जानकारी

4.  ICSE Full Form In Hindi – आईसीएसई बोर्ड की पूरी जानकारी

5.  MLA Full Full Form In Hindi – एमएलसी के बारे में संपूर्ण जानकारी

एनएचआरसी सदस्यों का योग्यता

अध्यक्ष 1 – उच्चतम न्यायालय का पूर्व मुख्य या अन्य न्यायाधीश होते हैं.

5 मुख्य सदस्य –

  1. प्रथम सदस्य – उच्चतम न्यायालय का कार्यरत या पूर्व न्यायाधीश होते हैं.
  2. दूसरा सदस्य – उच्च न्यायालय का कार्यरत या पूर्व न्यायाधीश होते हैं. 
  3. अन्य 3 सदस्य – मानव अधिकार के विषय में विशेषज्ञ, जिसमें कम से कम एक महिला शामिल होना आवश्यक है. 

7 पदेन सदस्य – 

  1. SC आयोग के अध्यक्ष.
  2. ST आयोग के अध्यक्ष. 
  3. राष्ट्रीय महिला आयोग के अध्यक्ष.
  4. राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष.
  5. राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष.
  6. राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष.
  7. राष्ट्रीय दिव्यांग अन आयोग के अध्यक्ष.

Google

Leave a Comment