POK Full Form In Hindi – पीओके (POK) क्या है, इसके मुद्दे और इतिहास

POK Full Form In Hindi : भारत का आजादी का समय का कहानी, भारत का आजादी 19 40 साल 15 अगस्त में हुआ था जिस दिन हम स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं, तब हमारे देश का बंटवारा दो भागों में हुआ था भारत और पाकिस्तान. बंटवारे के समय भारत के साथ कई राज्य आकर जुड़ा था और कुछ राज्य ऐसा था जोकि किसी देश के साथ नहीं जोड़ना चाहता था बल्कि वह अलग से रहना चाहते थे जम्मू कश्मीर उनमें से एक है. अभी के समय पर जम्मू कश्मीर  राज्य के एक अंग जो पाकिस्तान के नियंत्रण में है उसे पीओके (POK) कहा जाता है.

भारत का राज्य जम्मू कश्मीर का एक अंग पीओके रॉकी माना जाता है यह भारत का हिस्सा है. दोस्तों क्या आप जानते हैं इस पीओके का फुल फॉर्म क्या है (POK Full Form In Hindi), पीओके क्या है और पीओके का इतिहास क्या था. दोस्तों हम आपको इस लेख के माध्यम से पीओके  के संबंधित सभी जानकारियां आपको देने की कोशिश करेंगे, संपूर्ण जानकारियां प्राप्त करने के लिए हमारे साथ इस लेख में जरूर बने रहे.

पीओके का फुल फॉर्म क्या है?

दोस्तों के लिए पीओके (POK) के बारे में जाने से पहले इसका फुल फॉर्म के बारे में जान लेते हैं आपको बता दें कि पीओके को दो फूल फ्रॉम से जाने जाते हैं एक हिंदी और दूसरा अंग्रेजी.

पीओके का फुल फॉर्म इस प्रकार है –

➤  POK Full Form In English – Pakistan Occupied Kashmir

➤  POK Full Form In Hindi – पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर

POK Full Form In Hindi

यह भी पढ़ें 

1.  IMD Full Form In Hindi – मौसम विभाग या आईएमडी के बारे में संपूर्ण जानकारी?

2.  एलकेजी (LKG) यूकेजी (UKG) Full Form In Hindi, अंतर क्या है?

3.  BTS Full Form in Hindi – बीटीएस क्या है और कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

4.  PUC Full Form In Hindi – पीयूसी क्या है और पीयूसी सर्टिफिकेट कैसे बनवाएं

5.  PWD Full Form in Hindi – पीडब्ल्यूडी क्या होता है और इनका जिम्मेदारियां

पीओके क्या है?

दोस्तों जैसे कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं पीओके (POK) यानी Pakistan Occupied Kashmir जिस का हिंदी मतलब होता है पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर. आजादी के समय भारत का राज्य कश्मीर का कई हिस्सों को पाकिस्तान बंटवारे के समय अपने कब्जे में ले लिया था. उस वक्त कश्मीर का राजा हरि सिंह चाहते थे कश्मीर को एक अलग दर्जा दिया जाए बिना किसी देश में शामिल किए हुए. लेकिन कुछ महीने महीने बाद पाकिस्तान कश्मीर में अपना कब्जा बनाना शुरु कर दिया और और कश्मीर के लगभग आधे हिस्से को अपने दखल में ले लिया था.

इस परिस्थिति को देखते हुए राजा हरि सिंह भारत के प्रधानमंत्री जोहन लाल नेहरू के साथ मदद लेने की प्रस्ताव रखे थे. जवाहरलाल नेहरू कुछ शर्तों पर कश्मीर को सुरक्षा देने के लिए राजी हुए थे, जोकि यह तीन शर्त है प्रतिरक्षा प्रणाली, संचार तंत्र और विदेश नीति यह तीन चीजों को भारत नियंत्रण करेगा जोकि धारा 370 के नाम से जाना जाता है. इसके बाद भारत का सेना जाकर पाकिस्तानी सेना को कश्मीर के कुछ हिस्सों से बाहर निकाला. लेकिन नेहरू द्वारा आगे की कार्रवाई रोक दिया गया जिसके बाद बचे हुए कश्मीर का हिस्सा पीओके (POK) पाकिस्तान के दखल में रह गया.

पीओके का कुछ अद्भुत इतिहास

भारत के आजादी के समय भारत का सीमा को निर्धारित करने के लिए ब्रिटिश सरकार के द्वारा कार्रवाई के दौरान भारत सरकार जवाहरलाल नेहरू का प्रस्ताव था कि जो भी राज्य भारत के साथ जुड़ना चाहते हैं वह उनके साथ जुड़ सकते हैं, लगभग सभी राज्य अपनी मर्सी मुताबिक भारत के साथ जुड़ने में सहमति दिखाई.

●  लेकिन कुछ ऐसे राज्य जो चाहते थे उनका खुद का अलग दर्जा रहे वह किसी दूसरे देश के साथ नहीं जुड़ना चाहते थे उनमें से ही एक थे कश्मीर. जिनका राजा हरि सिंह ने कहा कि वह ना भारत के साथ जुड़ना चाहते हैं ना पाकिस्तान के साथ वह खुद का राज्य खुद के नियंत्रण में रखने जाते हैं.

●  उसी समय 1947 में भारत का सीमा कश्मीर के बिना ही निर्धारित हो चुका था. और पाकिस्तान का भी सीमा तय हो गया था और बीच में रहा था कश्मीर राज्य जो कि पाकिस्तान से लगभग 5 गुना छोटा है. 

●  पाकिस्तान इस मौके को देखते हुए कश्मीर पर सपना कब्जा जमाना शुरू कर दिया था और देखते देखते हो श्रीनगर तक पहुंच गया था कश्मीर का राजा कश्मीर को संकट में देखते हुए भारत के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से मदद के लिए हाथ बढ़ाया था. 

●  पहले दफा में नेहरू कश्मीर राजा हरि सिंह को मदद देने के लिए इनकार किया था. उसके बाद सलाहकार के बातों को सुनने के बाद उन्होंने कुछ शर्तों को मुद्दे रखते हुए कश्मीर को सुरक्षा देने के लिए निर्णय लिया और सेना भेजा कश्मीर को रक्षा करने के लिए. कश्मीर के आधे लगभग हिस्से को पाकिस्तान मुक्त करवाने के बाद इस कश्मीर रक्षा कार्रवाई को बंद कर दिया गया नेहरू द्वारा.

●  नेहरू अचानक निर्णय लिया इस मुद्दे को UNO के हाथ में सौंप दिया जाए उसके बाद UNO के हाथ में यह मुद्दा आने के बाद कोई साला नहीं निकला बल्कि बचे हुए कश्मीरी हिस्से को पाकिस्तान के हवाले कर दिए गए और उस जगह का नाम पर गया पीओके यानी Pakistan Occupied Kashmir.

●  इस तरह से कश्मीर का यह हिस्सा पाकिस्तान में चला गया और बाकी हिस्से भारत में रह गया. वर्तमान प्रधानमंत्री का मानना है पीओके यानी जो कश्मीरी हिस्सा पाकिस्तान के दखल में है वह अभी भी भारत का ही है और वह भी एक दिन भारत के नियंत्रण में लाया जाएगा. इसी के साथ हाल ही में उन्हीं के द्वारा कश्मीर से धारा 370 को कश्मीर से हटाया गया और कश्मीर अभी के समय पर भारत के दूसरे राज्य के जैसा ही है.

यह भी पढ़ें 

1.  IMD Full Form In Hindi – मौसम विभाग या आईएमडी के बारे में संपूर्ण जानकारी?

2.  एलकेजी (LKG) यूकेजी (UKG) Full Form In Hindi, अंतर क्या है?

3.  BTS Full Form in Hindi – बीटीएस क्या है और कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

4.  PUC Full Form In Hindi – पीयूसी क्या है और पीयूसी सर्टिफिकेट कैसे बनवाएं

5.  PWD Full Form in Hindi – पीडब्ल्यूडी क्या होता है और इनका जिम्मेदारियां

दोस्तों आपने क्या सीखा

POK Full Form In Hindi : आज हम आपको भारत के राज्य कश्मीर का हिस्सा पीओके का इतिहास के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी आपको देने की कोशिश की है जो कि एक भारतीय होने के नाते आपको जानना बहुत आवश्यक है. हम उम्मीद करते हैं कि हमारे यह जानकारी आपको काफी पसंद आया होगा. हमारे इस लेख में अंत तक बने रहने के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद.

इस लेख में पीओके के बारे में जानकारी के तौर पर आज हम आपको बताएं हैं पीओके क्या है, पीओके का फुल फॉर्म क्या है, पीओके का मुद्दा और इतिहास आदि. यदि आपको हमारी यह लेख useful, helpful और informative लगे हैं तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें. दोस्तों आज हमारे इस सफर को यहीं पर समाप्त करते हैं और मिलते हैं आपसे हमारे अगले नए  जानकारी के साथ, तब तक के लिए स्वस्थ रहें खुश रहें. Google

Leave a Comment